fbpx Press "Enter" to skip to content

एक अनार और सौ बीमार में भाजपा कांग्रेस दोनों परेशान

  • पार्टी में पदाधिकारी बनने की मची है होड़

  • समर्पित और पुराने कार्यकर्ता हो रहे दरकिनार

  • किसी को नाराज करने की स्थिति में नहीं नेता

संवाददाता

रांचीः एक अनार और सौ बीमार वाली कहावत अभी भाजपा और कांग्रेस दोनों में एक

समान हावी है। दरअसल राजनीतिक समीकरणों के बदलने की वजह से दोनों ही दलों में

पार्टी में पदाधिकारी बनने की होड़ मची हुई है। इसी का नतीजा है कि पार्टी के बड़े नेताओं

को लोगों को मनाने में अधिक परिश्रम करना पड़ रहा है। उनके पास आने वाले अधिकांश

लोग पार्टी में किसी न किसी स्तर पर पद पाने को लालायित है। दूसरी तरफ हरेक को पद

दिया नहीं जा सकता तो नाराज भी नहीं किया जा सकता है। वैसे इस होड़ के बीच दोनों ही

दलों में एक दूसरी स्थिति यह नजर आने लगी है कि पार्टी के पुराने कार्यकर्ता अचानक से

खुद को दरकिनार महसूस करने लगे हैं। ऐसा महसूस करने वाले नेता कई दशकों से पार्टी

का झंडा ढोते आये हैं लेकिन वर्तमान गणेश परिक्रमा की संस्कृति में वह खुद को एडजस्ट

नहीं कर पा रहे हैं। पहले दोनों ही दलों में यह अलिखित परंपरा थी कि पार्टी के वरिष्ठ

नेताओं और कार्यकर्ताओं के सम्मान की रक्षा होती थी। उसके लिए अलग अलग कमेटियों

में उन्हें स्थान दिया जाता था। लेकिन अब यह परिपाटी समाप्त हो चली है। दूसरी तरफ

अन्य राजनीतिक कारणों से ऐसे पदों पर लोगों को एडजस्ट करने की गुंजाइश भी कम हो

चुकी है। नतीजा है कि अब अधिकांश लोग येन केन प्रकारेण पार्टी में ही पदाधिकारी बनने

की होड़ में हंगामा मचाये हुए हैं।

एक अनार और सौ बीमार में पुराने कार्यकर्ता हैरान

कुछेक बड़े नेताओं ने इशारों ही इशारों में कहा कि पदों की मांग के फोन से भी वे तंग आ

गये हैं। उधर हालत कुछ ऐसी है कि अब कोई भी कार्यकर्ता बिना पद के संतुष्ट नहीं है।

पहले भाजपा में ऐसी बीमारी नहीं थी लेकिन लगातार सत्ता में होने की वजह से यह

बीमारी भाजपा में भी अब सर चढ़कर बोल रही है। इस बारे में पुराने नेताओं और

कार्यकर्ताओं का मानना है कि हाल के दिनों के बदलाव की राजनीति और दूसरे दलों की

होड़ से भाजपा में भी यह बीमारी घर कर गयी है। पद पाने के लिए लोगों का एड़ी चोटी का

जोर लगाना भी यह साबित करती है कि जनता के बीच पार्टी की लोकप्रियता में भी

लगातार इजाफा हो रहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!