fbpx Press "Enter" to skip to content

लॉकडाउन की स्थिति में 498 नए दाल-भात केंद्र शुरू करने का राज्य सरकार का निर्देश

रांची : लॉकडाउन स्थिति पर राज्य सरकार ने गरीबों पर ध्यान केन्द्रित किया है। जहां

कोरोना वायरस को लेकर देशव्यापी लॉक डाउन के पहले झारखंड में 377 दाल-भात केंद्र

पहले से चल रहे थे, जहां पांच रुपये का भुगतान कर लोग भरपेट भोजन करते थे, लेकिन

राज्य सरकार ने लॉकडाउन की स्थिति में 498 नए दाल-भात केंद्र शुरू करने का निर्देश

दिए हैं। इसके अलावा सभी थानों में सामुदायिक रसोई की भी व्यवस्था की गयी है।

लॉकडाउन की अवधि में भोजन के लिए लगने वाली पांच रुपये की राशि को भी माफ करने

का निर्णय लिया गया है। राज्य के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के मंत्री रामेश्वर उरांव ने

सभी जिला के उपायुक्तों को हर जिले में जगह देख कर वहां केंद्र खुलवाने का काम पूरा

करने का निर्देश दिया है। उन्होंने साफ कहा है कि कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहना चाहिए

इस सोच के साथ काम करें। रामेश्वर उरांव ने बताया कि झारखंड के सभी दाल-भात केंद्रों

में मंगलवार से असहाय लोगों को निशुल्क भोजन मिलने लगा है, अब तक 5 रुपये में

पेटभर भोजन कराया जाता था, लेकिन सरकार ने यह निर्णय लॉकडाउन अवधि के लिए 5

रुपये नहीं लेने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि यह व्यवस्था लॉकडाउन के

बाद भी कुछ माह तक चलाया जाएगा, जब तक हर क्षेत्र में स्थिति पटरी पर ना आ जाए।

दाल-भात केंद्र चलाने वाले संचालकों को अलग से पैसा मुहैया कराया जाएगा। रामेश्वर

उरांव ने कहा कि दाल-भात केंद्र में बड़ी संख्या में असहाय और निर्धन लोग पहुंच रहे हैं

और खाना खा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इससे पहले सभी थानों में बने सामुदायिक रसोई

से लोगों को भोजन दिया जा रहा है। इसमें भी कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा है। लोगों को

भोजन मिलेगा, इसमें कोई कमी नहीं होगी। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि सरकार हर

स्तर से लोगों को भोजन उपलब्ध करा रही है। राशन दुकानों से दो से तीन माह का राशन

दिया जा रहा है। और गरीब व जरूरतमंदों की हर संभव देखभाल की जा रही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!