fbpx Press "Enter" to skip to content

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में इस साल का सबसे बड़ा नक्सली हमला हुआ

  • मुठभेड़ में 24 जवान शहीद 31 लोग घायल हुए

  • बीती रात सिर्फ पांच के शहीद होने की सूचना दी

  • कई घायलों को ईलाज के लिए रायपुर लाया गया

  • मुठभेड़ में कुछ नक्सलियों के भी मारे जाने का दावा

बीजापुर: छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में पुलिस और नक्सलियों के बीच शनिवार को

लगभग चार घंटे चली मुठभेड़ के एक दिन बाद आज दिन में शहीद जवानों की संख्या पांच

से बढ़कर 24 हो गयी और 31 जवान घायल हैं। पुलिस सूत्रों ने मुठभेड़ के बाद आज प्राप्त

सूचनाओं के हवाले से कहा कि 24 जवान शहीद हुए हैं। वहीं 31 जवानों के घायल होने की

पुष्टि हुयी है, जिनमें से लगभग एक दर्जन को इलाज के लिए राजधानी रायपुर भेज दिया

गया है। शेष का इलाज यहीं पर अस्पताल में चल रहा है। घायल जवानों में भी कुछ ही

हालत काफी गंभीर बनी हुयी है। पुलिस का मानना है कि कुछ नक्सलियों के भी मारे जाने

की आशंका है, जिनके शव नक्सलियों के कब्जे में ही हैं। छत्तीसगढ़ के बीजापुर में जंगल

में पहाड़ियों से घिरे इलाके में सैकड़ों की संख्या में नक्सलियों ने पुलिस के संयुक्त गश्ती

दल पर हमला किया। गश्ती दल में भी सैकड़ों जवान शामिल थे। बताया गया है कि

नक्सली पहाड़ियों पर से हमला कर रहे थे। इस बीच आज और अधिक संख्या में पुलिस

बल घटनास्थल की ओर रवाना किया गया है। सूत्रों का कहना है कि मुठभेड़ स्थल यहां से

लगभग 75 किलोमीटर दूर है। मुठभेड़ कल दिन में लगभग दो बजे प्रारंभ हुयी थी और जो

देर शाम तक चली। पहाड़ियों से घिरे सघन वन इलाके में कल देर रात तक पांच जवानों के

शहीद होने की पुष्टि वरिष्ठ अधिकारियों ने की थी। घायलों में से 12 जवानों को कल देर

शाम ही हेलीकॉप्टर से रायपुर भेज दिया गया था। पुलिस का कहना है कि यह मुठभेड़

बीजापुर जिले में सुकमा जिले की सीमा पर तररेम इलाके के जंगलों में हुयी।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों के जमावड़े की गुप्त सूचना थी

बताया गया है कि यहां पर कुछ दिनों से नक्सलियों और उनके नेताओं के एकत्रित होने की

सूचना पर गश्ती दल भेजा गया था। सूत्रों ने कहा कि शहीद जवानों में जिला रिजर्व पुलिस

बल के 08 के अलावा शेष जवान स्पेशल टास्क फोर्स और कोबरा बटालियन के शामिल हैं।

घटनास्थल पर आज अतिरिक्त पुलिस बल पहुंचा है, लेकिन उन पर भी हमले के प्रयास

की खबरें आयी हैं। छत्तीसगढ़ के बीजापुर के अलावा आस पास के इलाकों से भी सशस्त्र

बल को घटनास्थल की तरफ सूचना पाकर भेजा गया था।  वहीं बस्तर रेंज के पुलिस

महानिरीक्षक सुन्दरराज पी. ने बताया कि शनिवार को सुकमा और बीजापुर इलाके के

जूनागुड़ा पहाड़ी में नक्सली नेताओं के होने की खबर थी। इसके चलते लगभग 1500

जवानों के दल ने तीन तरफ से पहाड़ियों को घेर लिया था। अचानक दोनों ओर से तीन घंटे

तक गोलीबारी हुई। उन्होंने आधिकारिक तौर पर सुबह तक आठ जवानों के शहीद और

लगभग 20 जवानों के लापता होने की बात कही है। महानिरीक्षक ने बताया कि नक्सलियों

की संख्या 200 से अधिक बतायी गयी थी। उन्होंने 09 नक्सलियों के मारे जाने का दावा

भी किया। उन्होंने बताया कि तर्रेम आधार शिविर के आसपास 15 किलोमीटर के अंदर

नक्सलियों की मौजूदगी के पुख्ता सबूत के बाद पुलिस का ऑपरेशन शुरू किया गया था,

जिसमें कोबरा बटालियन, केन्द्रीय सुरक्षा बल तथा जिला पुलिस बल के जवान शामिल

थे। बताया जाता है कि जवान पहाड़ियों में तीन तरफ से घिर गये थे।

घटना में शहीद और घायल जवानों के नाम इस प्रकार हैं

शहीद पुलिस जवानों में रमेश कुमार कोसरा, बबलू रमा, सुभाष नायक, नारायण सोरी,

किशोर एन्ड्रीड, सन्नोकुमार सोड़ी, कोसाराम अटामी और सहायक निरीक्षक दीपक

भारद्वाज शामिल हैं। शेष शहीद जवानों के नाम अभी सामने नहीं आए हैं। घायल जवानों

में अमित कुमार, सुनील कुमार, संमेश, लक्ष्मण हमेमला, भास्कर यादव, मनीराम

कुंजाम, सोमारू कर्मा, विजय मंडावी, बदरू पुनेम, आनंद पटेल, आनंद कुरसम, र्प्रकाश

चेट्टी, बसंत झाड़ी, मदनपाल, दसरू हेमला, बलेंदर सिंह, सोनू मंडावी, जितेंद्र दास,

सूर्यभान सिंह यादव, थामेश्वर साहू और थॉमस पॉल शामिल हैं, जिनका इलाज बीजापुर

में जारी है। शेष घायल जवानों का इलाज रायपुर में चल रहा है।

शाह ने फोन पर भूपेश से हमले की ली जानकारी

रायपुर: गृह मंत्री अमित शाह ने आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से फोन पर कल हुए बीजापुर

नक्सली हमले के बारे में जानकारी ली,और राज्य सरकार को केन्द्र की तरफ से सभी

आवश्यक मदद का भरोसा दिलाया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री श्री शाह ने

श्री बघेल को फोन करके उनसे छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुई नक्सली घटना के संबंध में

जानकारी ली।श्री बघेल ने गृह मंत्री को बीजापुर में राज्य और केंद्र के सुरक्षा बलों और

नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ की मैदानी स्थिति से अवगत कराया।उन्होने जवानों की

शहादत पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि सुरक्षा बलों के हौंसले बुलंद हैं और नक्सली

हिंसा के विरुद्ध यह लड़ाई हम ही जीतेंगे। श्री शाह ने मुख्यमंत्री से कहा कि केंद्र सरकार

और राज्य सरकार मिलकर इस लड़ाई को अवश्य जीतेंगे।उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की

तरफ से जो भी आवश्यक मदद होगी वो राज्य सरकार को दी जायेगी।उन्होंने

सीआरपीएफ के महानिदेशक को घटना स्थल पर जाने के भी निर्देश दिए हैं। श्री बघेल ने

कहा कि नक्सल हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों में हो रहे लगातार विकास कार्यों से ग्रामीणों का

नक्सलियों से मोह भंग हो रहा है और वे लगातार विकास की मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं।

स्वास्थ्य , शिक्षा और अन्य सुविधाएं अंदरूनी गांवों तक सुलभ हो रही हैं और नक्सली

विचारधारा से लोग विमुख हो रहे है।इससे बौखला कर नक्सली इस तरह के हमले कर

अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की कोशिश कर रहे हैं ।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from छत्तीसगढ़More posts in छत्तीसगढ़ »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: