fbpx Press "Enter" to skip to content

असम की 22 हजार मेधावी छात्राओं को सरकार देगी स्कूटी

  • एक सितंबर से फिर से खुल सकते हैं शैक्षणिक संस्थान

  • वित्त और शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरना का एलान

  • प्रथम श्रेणी अंक पाने वाली हर बच्ची को फायदा

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम की 22 हजार मेधावी छात्राओं को सरकार स्कूटी देने जा रही है। असम के

वित्त और शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने आज घोषणा की कि राज्य सरकार द्वारा

संचालित कक्षा 12 परीक्षाओं के दौरान प्रथम श्रेणी के अंक हासिल करने वाली प्रत्येक

छात्रा को राज्य सरकार की योजना के तहत स्कूटर दिया जाएगा। उच्च माध्यमिक परीक्षा

में 22,000 छात्राओं ने प्रथम श्रेणी अंक प्राप्त किए थे और अब हम उनमें से हर एक को

एक स्कूटर देंगे, ताकि वे अपने संबंधित कॉलेजों की यात्रा कर सकें ”, हिमंत बिस्वा सरमा

ने कहा।हिमंत बिस्व सरमा के अनुसार, मेधावी छात्राओं को दी जाने वाली प्रत्येक स्कूटी

की कीमत लगभग 50,000-55,000 रुपये होगी। सरमा ने आगे कहा कि 15 अक्टूबर तक

छात्राओं को स्कूटी दी जाएगी। दूसरी ओर,असम सरकार ने आगामी एक सितंबर को

शैक्षणिक संस्थानों को फिर से खोलने की प्रारंभिक योजना बनाई है, लेकिन अंतिम निर्णय

केंद्र के निर्देशों पर निर्भर करेगा। ये जानकारी राज्य के शिक्षा मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने

बुधवार को दी है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि स्कूलों के सभी शिक्षकों और कर्मचारियों

को खुद का परीक्षण करना होगा। हमने स्कूलों को फिर से खोलने के लिए एक प्रारंभिक

योजना तैयार की है, लेकिन यह निर्णय अभी भी माता-पिता और अन्य संबंधित के साथ

आगे की चर्चा के बाद बदल भी सकता है। इसे केवल केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुसार

लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सितंबर अंत तक कक्षा 4 तक के छात्रों के लिए स्कूल

बंद रहेंगे।कक्षा 5 से लेकर 8 के छात्रों के लिए स्कूल के खेल आयोजित किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि कक्षाओं को 15 छात्रों के वर्गों में विभाजित किया जाएगा और केवल ये

छात्र एक बार में कक्षाओं में भाग ले सकते हैं।

असम की मेधावी छात्राओं के अलावा खेल प्रतियोगिता भी होगी

कक्षा 9वीं और 11वीं के छात्र सप्ताह में दो दिन कक्षाओं में भाग लेंगे, जिसमें 15 छात्र एक

बार में उपस्थित होंगे। कक्षा 10वीं और 12वीं के लोग सप्ताह में चार दिन कक्षाओं में भाग

लेंगे। मंत्री ने कहा कि कक्षा में एक समय में केवल 15 छात्र उपस्थित होंगे और कक्षाएं

केवल तीन घंटे आयोजित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि दिन के तय समय पर आने वाले

छात्र सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे। डिग्री स्तर पर, कक्षाएं केवल

अंतिम सेमेस्टर के लिए आयोजित की जाएंगी। स्नातकोत्तर छात्रों के लिए,

विश्वविद्यालय निर्णय लेंगे। सरमा ने कहा कि इन सभी प्रस्तावों को शिक्षा विभाग की

वेबसाइट पर डाला जाएगा और लोगों को 20 अगस्त तक अपने सुझाव देने के लिए बुलाया

जाएगा। हम इन सुझावों पर काम करेंगे, लेकिन अंतिम निर्णय लेने से पहले केंद्र के निर्देश

का भी इंतजार करेंगे। बता दें कि कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद असम में 20 मार्च से

शैक्षणिक संस्थान बंद हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बयानMore posts in बयान »
More from महिलाMore posts in महिला »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!