Press "Enter" to skip to content

विद्यासागर प्रतिमा से तोड़फोड़ के खिलाफ वाम मोर्चा का प्रदर्शन




कोलकाताः विद्यासागर की प्रतिमा को खंडित किए जाने की घटना ने ज्वलंत रुख अख्तियार कर लिया है

और वाम दलों के प्रमुख बड़े नेता इसके विरोध में बुधवार को सड़कों पर उतर आए।

इस बीच पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच हुए हिंसक झड़प को लेकर दो अलग-अलग मामला

दर्ज करके 58 लोगों को गिरफ्तार किया है।

दोनों पक्षों के बीच झड़प में काफी लोग घायल भी हुए हैं।

वाम दलों के कद्दावर नेता प्रकाश करात, सीताराम येचुरी, सूर्यकांत मिश्र, विमान बोस और सुजान चक्रवर्ती की

अगुवाई में वाम मोर्चा कार्यकर्ताओं ने कालेज स्कवायर से हेडुआ तक रैली निकाली

और प्रदर्शन किया तथा घटना के पीछे वास्तविक तथ्यों का पता लगाने की लिए संपूर्ण मामले की जांच की मांग की।

वाम मोर्चा नेताओं ने इस घृणित घटना की तीखी निंदा करते हुए आरोप लगाया कि एक सुनियोजित योजना के तहत प्रतिमा की तोड़फोड़ की गयी।

उन्होंने वास्तविक अपराधियों को कानून के शिकंजे में लाए जाने की मांग की।

चुनाव आयोग से भी प्रतिमा के साथ तोड़फोड़ करने वाले अपराधियों की जांच करवाने की मांग की।

उन्होंने कहा कि मौजूदा चुनाव के समय इस तरह की घटनाएं राज्य की भयावह तस्वीर प्रदर्शित करती हैं।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को भाजपा कार्यकर्ताओं और कलकत्ता यूनीवर्सिटी तथा विद्यासागर कॉलेज के छात्रों के बीच तेज झड़प और हिंसा हुई।

झड़प की शुरुआत श्री शाह के रोडशो के दौरान ट्रक पर डंडे फेंके जाने से हुई।

उनके काफिले पर कॉलेज के एक छात्रावास से पथराव भी किया गया जिसके बाद भाजपा समर्थक भड़क गये।

उन्होंने भी यूनिवर्सिटी के मुख्यद्वार पर पत्थर और बोतलें फेंकी।

स्थिति संभालने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज भी करना पड़ा।

विद्यासागर कॉलेज के छात्रावास के बाहर खड़ी तीन मोटरसाइकिलों को आग के हवाले कर दिया गया।

कॉलेज में स्थापित ईश्वरचंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी तोड़ दी गयी।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.