Press "Enter" to skip to content

पूरे भारत में पंद्रह राज्यों में अंतरराज्यीय सीमा विवाद




  • दिल्ली से सीधे अमित शाह ही कर रहे हैं पहल
  • चुनाव से पहले केंद्र सरकार सुलझाने की कोशिश में
  • असम के आस-पास अत्यधिक तनाव की स्थिति
भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : पूरे भारत के पंद्रह राज्य में अंतरराज्यीय के बीच गंभीर विवाद चल रहा है । केंद्रीय गृह मंत्रालय तरफ से आज जारी किए गए एक बयान में यह जानकारी दी है।असम और मिजोरम,असम और अरुणाचल प्रदेश, असम – मेघालय, असम – नागालैंड के बीच अंतर-राज्य सीमा विवाद के बाद केंद्र सरकार ने आज को सूचित किया कि देश में 15 अंतर-राज्यीय सीमा विवाद हैं।




केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बताया कि आंध्र प्रदेश-ओडिशा, पश्चिम बंगाल-ओडिशा, छत्तीसगढ़- ओडिशा और झारखंड ओडिशा में चार पड़ोसी राज्यों के साथ सीमा विवाद अनसुलझा है। हरियाणा-हिमाचल प्रदेश, लद्दाख संघ राज्य क्षेत्र-हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र-कर्नाटक,बिहार और झारखंड तथा असम-अरूणाचल प्रदेश, असम-नागालैंड, असम -मेघालय और असम-मिजोरम के बीच सीमाओं के निर्धारण के फलस्वरूप सीमा विवाद पैदा हुए हैं तथा उनके बीच क्षेत्र संबंधी दावे एवं प्रति दावे किये गए हैं।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ और झारखंड के साथ विवादों को सुलझाने के लिए संवाद विभिन्न चरणों में थे और स्थायी समाधान निकालने के प्रयास जारी हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय तरफ से कहा कि कुछ विवादित सीमावर्ती क्षेत्रों में यदा-कदा विरोध और वहां हिंसा की घटनाओं की रिपोर्ट मिली हैं।

बयान में कहा कि केंद्र सरकार का लगातार यह दृष्टिकोण रहा है कि अंतर राज्य विवाद केवल संबंधित राज्य सरकारों के सहयोग से सुलझ सकें और विवाद का सौहार्दपूर्ण समाधान परस्पर समझ की भावना से करने के लिये केंद्र सरकार केवल सुविधा प्रदाता के रूप में कार्य करे। मंत्रालय ने कहा कि संसदीय चुनाव 2024 से पहले गृह मंत्रालय ने सभी अंतरराज्यीय सीमा विवाद को सुलझाने की कोशिश की है ।




पूरे भारत के सीमा विवाद वालों राज्यों से चर्चा कर रहे शाह

इस बीच , केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नई दिल्ली में असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा और अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू से मुलाकात की है। शाह ने दो पूर्वोत्तर राज्यों के बीच सीमा विवाद पर चर्चा की।

बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए सीएम हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा कि चर्चा का प्राथमिक बिंदु दोनों राज्यों के बीच “सीमा पुर्नरेखांकन था। असम के सीएम ने कहा कि “केंद्रीय गृह मंत्री ने मुझसे और अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू से मुलाकात की और मुख्य रूप से दोनों राज्यों के बीच सीमा पुनर्संरेखण और संरेखण के मुद्दे पर चर्चा की।”

सरमा ने यह भी बताया कि इस मुद्दे पर दोनों राज्यों के बीच अगले दौर की बैठक अगले साल जनवरी 2022 में होगी। इससे पहले, अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू ने कहा था कि दोनों राज्यों के बीच जटिल सीमा मुद्दे को हल करने के लिए सरकार स्तर की बातचीत ही एकमात्र रास्ता है।

विशेष रूप से, केंद्र ने हाल ही में लोकसभा को सूचित किया था कि पूर्वोत्तर के कम से कम चार राज्यों का असम के साथ सीमा विवाद है। केंद्र ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मेघालय और मिजोरम राज्यों के असम के साथ सीमा विवाद हैं। संसद के चल रहे शीतकालीन सत्र के दौरान सरकार ने लोकसभा को सूचित किया, “असम-अरुणाचल प्रदेश, असम-नागालैंड, असम-मेघालय, असम-मिजोरम के बीच सीमा विवाद हैं।



More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विवादMore posts in विवाद »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: