fbpx Press "Enter" to skip to content

श्रीकृष्ण जन्मस्थान मथुरा में भी सारे मंदिर बंद हुए

मथुराः श्रीकृष्ण जन्मस्थान मथुरा पर भी कोरोना वायरस का प्रभाव पड़ा है। कोरोना

वायरस के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित सभी मंदिरों को

31 मार्च तक के लिए श्रद्धालुओं के लिए रोक दिया गया है। श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा

संस्थान के सचिव कपिल शर्मा एवं सदस्य गोपेश्वरनाथ चतुर्वेदी के अनुसार मंदिरों में

अष्टयाम सेवा पूर्ववत चलती रहेगी लेकिन किसी मंदिर में श्रद्धालुओं को प्रवेश न मिल

सकेगा। उधर प्राचीन केशवदेव मंदिर मल्लपुरा के अध्यक्ष सोहनलाल एडवोकेट ने

बताया कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए मंदिर को 31 मार्च तक के लिए बन्द कर

दिया गया है । वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए मंदिर के अन्दर ही प्रार्थना की जा

रही है। इसी श्रंखला में गोवर्धन के मुकुट मुखारबिन्द मंदिर को 31 मार्च तक बंद कर

दिया गया है। मंदिर के रिसीवर रमाकांत गोस्वामी ने बताया कि मंदिर को मंगला के

समय केवल 15 मिनट के लिए गोवर्धन के उन लोगों के लिए खोला जाएगा जो नित्य

मंदिर की मंगला करते हैं और तभी अन्नजल गृहण करते हैं। लाडली मंदिर बरसाना के

रिसीवर कृष्ण मुरारी शर्मा ने कहा कि वे आज सेवायत से बात कर भविष्य में मंदिर

बन्द करने पर विचार करेंगे। वैसे आज मंदिर में मंदिर में मंगला के दर्शन करने के लिए

आनेवालों को समझा दिया गया है कि कुछ दिन उनका मंदिर में न आना उनके हित में

है। इसका मंगला के किसी दर्शनार्थी ने विरोध भी नहीं किया जब कि मंगला के कुछ

दर्शनार्थी तो रोज पांच छह किलोमीटर की दूरी से आते हैं और ब्रह्माचल पहाड़ी पर

स्थित इस मंदिर की पौने दो सौ सीढ़ियों को चढ़कर मंदिर पहुंचते हैं।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान के सभी मंदिर फैसले से सहमत

नन्दबाबा मंदिर नन्दगांव के सेवायत सुशील गोस्वामी ने बताया कि वैसे तो कोरोना

वायरस के संक्रमण फैलने के डर से तीर्थयात्री मंदिर में नहीं आ रहे हैं। एक , दो तीर्थयात्री

जो आते हैं उन्हें दर्शन करा दिया जाता है। स्थानीय लोगों को 15 मिनट के लिए मंगला

कराई जा रही है। फिर भी मंदिर के बाहरी लोगों के दर्शन रोकने के संबंध में गोस्वामियों

की बैठक के बाद ही निर्णय लिया जाएगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by