fbpx

लाखों का इनामी भाकपा माओवादी पुलिस को डेगागढ़ा से चकमा देकर हुआ फरार

लाखों का इनामी भाकपा माओवादी पुलिस को डेगागढ़ा से चकमा देकर हुआ फरार
  • माओवादियों को संरक्षण देने के शक के आधार पर दो युवक हिरासत में

ऊपरघाटः लाखों का इनामी नक्सली था। वह बोकारो जिले के नावाडीह प्रखंड अंतर्गत अति

उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र पोखरिया पंचायत के डेगागढ़ा से पुलिस को चकमा देकर निकल भागने

में कामयाब हो गया। खबर है कि भाकपा माओवादी का कुख्यात हार्डकोर नक्सली व लाखो का

इनामी सदस्य मिथलेश महतो उर्फ दुर्योधन महतो एक बार फिर पुलिस को चकमा देकर

निकल भागने में सफल रहा है। मिली जानकारी के अनुसार ऊपरघाट निवासी घनश्याम

महतो एवं उनका एक सहयोगी  को गिरिडीह पुलिस ने ऊपरघाट के डेगागढा पुरनी पोखर के

एक मुर्गी फॉर्म से गिरफ्तार कर अपने साथ ले गयी है। बताया जाता है कि इनामी उग्रवादी

सह माओवादी ऊपरघाट में तीन दिनों से सक्रिय होकर क्षेत्र में संगठन को विस्तार करने में

जुटा था जिसकी जानकारी गिरिडीह पुलिस को मिली थी। दूसरी तरफ इस बात की जानकारी

उक्त इनामी माओवादी को भी लग गई थी कि पुलिस उसे घेरने उपरघाट पहुच चुकी है और

वह फिर एक बार पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा। सूत्रो से मिली जनकारी के

अनुसार उक्त मामले में संरक्षण देने वाले दो युवकों को पुलिस अपने हिरासत में लेकर गहन

पुछताछ में जुटी है। सूत्रों की मानें तो बोकारो जिले के हार्डकोर भाकपा माओवादी चिराग दा

उर्फ रामचंद्र दा और चन्द्रू दा सहित ऊपरघाट के अन्य शहीद भाकपा माओवादियों का शहादत

दिवस मनाने को ले कर परसनाथ और झुमरा जाॅन के भाकपा माओवादी संगठन के कार्यकर्ता

तैयारी करने में जुट गये हैं। क्षेत्र में लोगों की चहलकदमी जोरों पर है। हलाॅकि शहादत दिवस

समारोह कहाँ होगी कोई नही जानता। सूत्रों ने यह भी बताया कि भाकपा माओवादियों की

टोली क्षेत्र का दौरा शुरु विगत सप्ताह से ही कर दिया था।

लाखों का इनामी नक्सली पुराने साथियों को जुटा रहा है

बताता चलू कि माओवादी सभी पुराने कार्यकर्ताओं से सहमति जुटाने में लग गये हैं। आगे यह

भी बताया जा रहा है कि भाकपा माओवादी शहीद वेदी पर माल्यार्पण कर शहीदों की सपनों की

सकार के लिए उपस्थित लोगों को शपथ दिलायी जायेगी। मालूम हो कि शहीद सप्ताह दिवस

के कार्यक्रम के दौरान ही पुलिस कर्रवाई (मुठभेंड) में चंद्रू दा की मौत हो गया था। विदित हो

कि भाकपा माओवादियों द्वारा प्रत्येक वर्ष शहीद सप्ताह दिवस 28 जुलाई से 03 अगस्त के

बीच मनाते आ रहे है और इस दौरान पोस्टरबाजी  और बेनर चौक चौराहे पर लगाने का प्रयास

करते आ रहे हैं। माओवादी के घुजा तुरी के शहादत दिवस पर 1995 से 2000 तक एक विशाल

मशाल जुलूस माओवादियों द्वारा निकाला जाता रहा है जो ऊपरघाट के पेंक ,नारायणपुर होते

हुए पोखरिया पंचायत के डेगागढ़ा मैदान में शहीद मेला के रुप में तब्दील हो कर रात्रि में

क्रांतिकारी संगीत के साथ नुक्कड़ सभा का आयोजन किया जाता था। वही रात्रि में उपस्थित

लोगों के बीच चुड़ा गुड़ का भी वितरण किया जाता था। वह दृश्य अब पुलिसिया कार्रवाई से

समाप्त हो चुकी है। कुल मिलाकर एक बार फिर उपरघाट नक्सली गतिविधियों के लिए

सुर्खियों में है और पुलिस हर तरह से चुश्त और तैयार दिख रही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Rkhabar

Rkhabar

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: