fbpx Press "Enter" to skip to content

भाजपा नेत्री प्रीति शेखर का फर्जी फेसबुक आईडी बनाने वालों का पता नहीं चला

प्रतिनिधि

भागलपुर: भाजपा नेत्री व पूर्व डिप्टी मेयर प्रीति शेखर ने अज्ञात के खिलाफ अपनी फर्जी

फेसबुक आइडी बनाने का केस तातारपुर थाने में दर्ज कराया था, लेकिन अब तक पुलिस

उसे खोज नहीं पाई है। जबकि सीनियर अधिकारी निर्देश पर निर्देश दे रहे हैं। लेकिन

धरातल पर उसका असर नहीं दिख रहा है। दरअसल, कुछ दिनों पहले फेसबुक पर उन्होंने

एक पोस्ट के जरिए यह जानकारी दी थी कि उनके नाम से एक फेक आइडी किसी ने बनाई

है। अब थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद इस पूरे मामले की जांच में तकनीकी शाखा

डीआइयू सेल और भागलपुर साइबर सेल की मदद ली जा रही है। इस मामले को लेकर

तातारपुर थाने में दिए गए आवेदन में भाजपा नेत्री ने कहा कि 23 मई 2020 को उन्हें कुछ

लोगों से इस बात की जानकारी मिली कि लोगों के फेसबुक पर उनके (प्रीति शेखर) के नाम

से फ्रेंड रिक्वेस्ट भोजा जा रहा है। साथ ही मैसेंजर पर उनके फोटो का इस्तेमाल कर अभद्र

मैसेज भी भोजे जा रहे हैं। वहीं पूर्व डिप्टी मेयर की फेक आइडी से महिलाओं को मैसेज कर

उनका फोन नंबर भी मांगा जा रहा है.इस तरह की घटना को अपनी प्रतिष्ठा व निजता का

हनन मानकर उन्होंने ठोस कार्रवाई की मांग पुलिस प्रशासन से की है।

भाजपा नेत्री को न्याय में देर से निराशा

पूर्व उपमहापौर प्रीति शेखर ने बताया कि फेसबुक आईडी के मामले में काफी दिन पहले

एफ आई आर दर्ज हुई थी तातारपुर पुलिस ने कहा भी था 20 से 25 दिनों में गलत करने

वालों की पहचान हो जाएगी लेकिन आज तक पुलिस ने फेसबुक आईडी पर अब मैसेंजर

पर आपत्तिजनक मैसेज भोजने वालों की पहचान नहीं की है उन्होंने साफ तौर पर कहा

कि बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे सोशल मीडिया पर हमेशा कहते हैं कि गलत करने

वाले को पुलिस नहीं छोड़ेगी लेकिन जब एक महिला जनप्रतिनिधियों के साथ ऐसा हो रहा

है तो आम व्यक्ति को कब न्याय मिलेगा और कितनी जल्दी न्याय मिलेगा यह अपने

आप में एक सवाल है। पूर्व उप महापौर प्रीति शेखर ने बताया फेसबुक आईडी पर के

माध्यम से मेरी प्रतिष्ठा का हनन करने की प्रयास करने वाले पर अभी तक कोई कार्रवाई

नहीं होना यह अपने आप में पुलिस के द्वारा एक लापरवाही नहीं है इस मामले में जल्द

आरोपी की पहचान कर पुलिस को गिरफ्तार करना चाहिए और ऐसे लोगों पर सख्त से

सख्त कार्रवाई करनी चाहिए जब एक महिला के सोशल आईडी पोस्ट पर आपत्तिजनक

बातें लिखने वालों पर कार्रवाई में इतनी देरी होगी इसे गलत करने वालों का मनोबल पड़ेगा

इसीलिए सोशल मीडिया पर किसी के साथ भी यदि गलत हो रहा है तो गलत करने वालों

की पहचान कर पुलिस को सीधे कार्रवाई करनी चाहिए।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!