Press "Enter" to skip to content

प्रधानमंत्री मोदी ने मेयर सम्मेलन का वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया




  • आधुनिक शहर ऐसे हों, जिनमें विरासत भी हो और विकास
  • काशी की अर्थव्यवस्था में माता गंगा का बड़ा योगदान
  • सुगम यातायात का एकमात्र उपाय सार्वजनिक हो
  • प्राचीनता की अहमियत है और विकास जरूरी

वाराणसी: प्रधानमंत्री मोदी ने शहरों के आधुनिकीकरण की जरूरत को तात्कालिक अनिवार्यता बताते हुये कहा है कि शहरों को इस प्रकार से आधुनिक बनाना, समय की मांग है जिनमें विरासत और विकास एकसाथ दिखें और जनसामान्य का जीवन यापन सुगम हो सके।




मोदी ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के वाराणसी में आयोजित अखिल भारतीय मेयर सम्मेलन को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते हुये कहा, ‘‘हमें ऐसे आधुनिक शहर बनाने होंगे जिनमें विरासत भी हो और विकास भी हो।’’ उन्होंने कहा कि देश में ज्Þयादातर शहर पारंपरिक शहर ही हैं और वे पारंपरिक तरीके से ही विकसित हुए हैं।

आधुनिकीकरण के इस दौर में इन शहरों की प्राचीनता की भी उतनी ही अहमियत है जितना कि उनका निरंतर विकास किया जाना जरूरी है। प्रधानमंत्री मोदी ने दो दिवसीय मेयर सम्मेलन का वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे।

मोदी ने सुगम यातायात को आधुनिक शहरों की प्राथमिक जरूरत बताया। उन्होंने कहा कि सुगम यातायात का एकमात्र उपाय सार्वजनिक यातायात ही है और इसे मेट्रो रेल की तर्ज पर बेहतर बनाते हुये बढ़ावा देना ही पड़ेगा। प्रधानमंत्री ने सभी मेयरों से आह्वान किया कि वे स्वच्छता को सिर्फ एक कार्यक्रम मात्र न समझें, बल्कि इसे अभियान की तरह लें।




प्रधानमंत्री मोदी ने मेयरों को कई सुझाव भी दिये

उन्होंने कहा, पूरी दुनिया जल संकट की बात करती हो, जब पूरी दुनिया ग्लोबल वॉर्मिंग एवं क्लाइमेट चेंज की बात करती हो, ऐसे में हम अपनी नदियों का भी ध्यान नहीं रखते। वाराणसी में गंगा सफाई अभियान का उदाहरण देते हुये मोदी ने कहा कि काशी के गंगा घाट पर दुनियाभर के पर्यटक आते हैं। काशी की अर्थव्यवस्था को चलाने में माता गंगा का बहुत बड़ा योगदान है।

जो भी लोग काशी आए होंगे, आज वे नहीं पहचान पाएंगे योगी

योगी ने कहा, ‘‘सात वर्ष पहले जो भी लोग काशी आए होंगे, आज वे काशी को नहीं पहचान पाएंगे। वर्ष 2014 के पहले काशी में लटकते-झूलते तार थे। बिना किसी प्लान के सब चीजें थीं। व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए ‘विकास’ होते थे। लेकिन आदरणीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में काशी ने विकास का अप्रतिम उदाहरण प्रस्तुत किया है।’’

मोदी संग सांसदों की बैठक में मिश्रा नहीं दिखे

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विभिन्न राज्यों के सांसदों के साथ बैठकों के क्रम में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के सांसदों के साथ बैठक की जिसमें विवादास्पद गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ शामिल नहीं हुए। सात लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री निवास में हुई इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, श्रीमती स्मृति ईरानी, डॉ. महेन्द्र नाथ पांडेय, अजय भट्ट, तीरथ सिंह रावत, पंकज चौधरी, राजबीर सिंह, भानुप्रताप वर्मा आदि सहित दोनों राज्यों के लोकसभा और राज्यसभा सांसदों से मुलाकात की। बैठक में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जे पी नड्डा, संसदीय मंत्री प्रल्हाद जोशी, अर्जुन मेघवाल और पी मुरलीधरन भी मौजूद थे। श्री जोशी उत्तराखंड के चुनाव प्रभारी हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from राज काजMore posts in राज काज »

2 Comments

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.