नरक चतुर्दशी के दिन होती है यमराज और बजरंग बली की पूजा

नरक चतुर्दशी के दिन होती है यमराज और बजरंग बली की पूजा

पटना: दीपावली पर्व के ठीक एक दिन पहले मनाई जाने वाली नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली भी कहा जाता है और इस दिन मृत्यु के देवता यमराज और हनुमान जी की पूजा की जाती है।



मान्यता है कि आज के दिन ही बजरंग बली का जन्म हुआ था।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन अर्द्धरात्रि में हनुमान जी का जन्म अंजनी माता के गर्भ से हुआ था।

यही कारण है कि हर तरह के सुख, आनंद और शांति की प्राप्ति के लिए नरक चतुर्दशी को बजरंग बली की उपासना लाभकारी होती है।

इस दिन शरीर पर तिल के तेल का उबटन लगाकर स्रान करते हैं और इसके बाद हनुमान की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हुए उन्हें सिंदूर चढ़ाया जाता है।

छोटी दीवाली के दिन घर के नरक यानी गंदगी को साफ किया जाता है।

जहां सुंदर और स्वच्छ प्रवास होता है, वहां लक्ष्मी जी अपने कुल के साथ आगमन करती हैं।

इस दिन यमराज के निमित्त एक दीपक दक्षिण दिशा की ओर मुख कर जलाया जाता है ताकि यमराज खुश रहें।

नरक चतुर्दशी में अकाल मृत्यु रोकने की प्रार्थना है

अकाल मृत्यु न हो और नरक के बजाय विष्णुलोक में स्थान मिले।

नरक चतुर्दशी को लोग यमराज की पूजा कर अपने परिवार वालों के लिए नरक निवारण की प्रार्थना करते हैं।

साथ ही गलतियों से बचने के लिए उनसे माफी मांगी जाती है।

नरक चतुर्दशी को मुक्ति पाने वाला पर्व भी कहा जाता है।

इस दिन लंबी आयु के लिए घर के बाहर यम का दीपक जलाने की परंपरा है।

आज की रात जब घर के सभी सदस्य आ जाते हैं तो गृह स्वामी यम के नाम का दीपक जलाते हैं।

कई घरों में इस दिन रात को घर का सबसे बुजुर्ग सदस्य एक दीया जलाकर पूरे घर में घुमाता है

और फिर उसे ले कर घर से बाहर कहीं दूर रख कर आता है।

घर के अन्य सदस्य अंदर रहते हैं और इस दीये को नहीं देखते। यह दीया यम का दीया कहलाता है।

माना जाता है कि पूरे घर में इसे घुमाकर बाहर ले जाने से सभी बुराइयां और कथित बुरी शक्तियां घर से बाहर चली जाती हैं।

इस रात दीए जलाने की प्रथा के संदर्भ में कई पौराणिक कथाएं और लोकमान्यताएं हैं।

नरक चतुर्दशी की कई पौराणिक मान्यताएं हैं

एक कथा के अनुसार आज के दिन ही भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी दुर्दांत असुर नरकासुर का वध किया था

और सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कर उन्हें सम्मान प्रदान किया था।

इस उपलक्ष्य में दीयों की बारात सजाई जाती है।

इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में दूसरी कथा यह है कि रति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे।

उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके समक्ष यमदूत आ खड़े हुए।

यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले, “मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया

फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा।

आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है।”

यह सुनकर यमदूत ने कहा, “हे राजन् ! एक बार आपके द्वार से एक ब्राह्मण भूखा लौट गया था, यह उसी पापकर्म का फल है।

इसके बाद राजा ने यमदूत से एक वर्ष समय मांगा।

राजा अपनी समस्या के समाधान के लिए ऋषियों के पास पहुंचे और उन्हें अपनी सारी कहानी सुनाकर

उनसे इस पाप से मुक्ति का क्या उपाय पूछा।

तब ऋषि ने उन्हें बताया कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें

और ब्राह्मणों को भोजन करवा कर उनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें।

राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया।”

इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ।

उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।



Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.