दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त है इंडोनेशिया का रेहान, हिंदू मानते हैं बजरंग बली

दुर्लभ बीमारी
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

 

जकार्ता: इंडोनेशिया का रेहान अपनी दुर्लभ बीमारी की वजह से दो तरफा परेशान है।
एक तो उसे बीमारी की परेशानी है। दूसरी तरफ वहां के हिंदू उसे बजरंग बली मान रहे हैं।
इस वजह से उसके पास लोगों की भीड़ एकत्रित हो रही है।
इस दुनिया में कई तरह के लोग हैं और उतनी ही बीमारियां भी हैं।
लेकिन कई बीमारियां ऐसी होती हैं जिनमें इंसान का शरीर एक अलग रूप ले लेता है
और उसका रूप-रंग भी बिल्कुल बदल जाता है।
कुछ बीमारियों के बारे में तो हमें पता तक नहीं होता है। ऐसे ही रोग से इंडोनेशिया
का रहने वाला रेहान जूझ रहा है। मोहम्मद रेहान एक बेहद ही एक दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त है।
  रेहान को वेयरवुल्फ नाम की जेनेटिक बीमारी है।
इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के शरीर पर घने बाल उग जाते हैं और वो काफी हद
तक बंदर जैसा दिखने लगता है।

बीमारी से पीड़ित रेहान की चार बहने भी हैं

वेयरवुल्फ बीमारी से ग्रस्त है रेहान इंडोनेशया के उत्तरी कालीमंतन इलाके के ममबुरुंग गांव में 13 साल का रेहान रहता है।
रेहान के परिवार में उसकी मां और चार बहनें भी रहती हैं।
रेहान के पिता का देहांत हो चुका है।
वेयरवुल्फ बीमारी के कारण वो सिर से लेकर पांव तक तीन इंच लंबे बाल से ढक गया है।
  हालांकि रेहान की इस बीमारी का इलाज संभव है लेकिन फिर भी वो इलाज कराना नहीं चाहता है।
लोग रेहान को बजरंगबली का रूप मानने लगे हैं रेहान को वेयरवुल्फ नाम की जेनेटिक बीमारी है।
रेहान के बारे में जानकर लोग उससे आशीर्वाद लेने आने लगे हैं। उसे लोग बजरंगबली का रूप मानने लगे हैं।
वह खुद भी इन सब चीजों से खुश है और कहता है कि ये भगवान का दिया हुआ वरदान है, उसे आॅपरेशन कराने की जरूरत नहीं है।
रेहान अपना इलाज नहीं कराना चाहता है ऐसा जीन्स में परिवर्तन होने के कारण होता है।
ये रोग लाखों लोगों में से किसी एक को होता है। हालांकि अब इस रोग का इलाज भी है।
लोगों के बीच ये चर्चा का विषय है।
रेहान अपना इलाज नहीं कराना चाहता है और वो इसे वरदान मानता है।
रेहान की मां कहती है कि रेहान के पिता के शरीर में भी इतने ही बाल थे पर उन्हें कभी कोई दिक्कत नहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.