जम्मू के सांबा सेक्टर में पाकिस्तान ने तोड़ा संघर्षविराम, बीएसएफ के 4 जवान शहीद

पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में तीन जूनियर ऑफिसर और एक कॉस्टेबल शहीद हो गए।

जम्मू के सांबा सेक्टर के रामगढ़ में पाकिस्तान ने फिर संघर्षविराम का उल्लंघन किया। इसमें बीएसएफ के 4 जवान शहीद और 3 जख्मी हो गए। जख्मी जवानों को जम्मू के सतवारी स्थित आर्मी अस्पताल में भर्ती किया गया है।

पाकिस्तान की ओर से मंगलवार रात करीब 10:30 बजे रामगढ़ स्थित अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फायरिंग शुरू की गई, जो बुधवार सुबह 4:30 बजे तक चली।

सांबा सेक्टर के रामगढ़ में बाबा चमलियाल के सालाना उर्स से पहले पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम तोड़ा गया है।

पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में तीन जूनियर ऑफिसर और एक कॉस्टेबल शहीद हो गए। इनमें सब-इंस्पेक्टर रजनीश कुमार, एएसआई राम निवास, एएसआई जतिंदर सिंह और हवलदार हंस राज शामिल हैं।

जम्मू-कश्मीर के उपमुख्यमंत्री कवीन्द्र गुप्ता ने कहा, “पाकिस्तान ऐसे हमले करता रहा है। यह चिंता का विषय है। हमारी सेना ऐसे हमला का जवाब देती है। शहीद हुए जवानों को मेरी श्रद्धांजलि।”


रामगढ़ में बाबा चमलियाल की दरगाह पर सालाना उर्स 26 जून को मनाया जाता है। हर साल परंपरा के अनुसार पाकिस्तान रेंजर्स यहां चादर चढ़ाते हैं। चादर चढ़ाने आए पाकिस्तान के रेंजर्स को बीएसएफ के जवान उर्स वाले दिन शरबत पिलाते हैं।

 गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 7 जून को बॉर्डर स्थित इलाकों का दौरा किया था। यहां वे सीमा पर रहने वाले लोगों से मिले थे। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह इस दौरे में उनके साथ थे।


डीजीएमओ लेवल की बातचीत के बाद पाकिस्तान की ओर से कहा गया था कि सीमा पर रहने वाले आम नागरिकों की परेशानी को देखते हुए दोनों सेनाओं के बीच संघर्षविराम को सख्ती से लागू करने पर सहमति बनी है

बता दें कि 29 सितंबर 2016 को हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद यह पहला मौका था, जब दोनों देशों की सेना संघर्षविराम का पालन करने पर सहमत हुई थीं।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.