Press "Enter" to skip to content

गिरिडीह में झारखण्ड पुरोधा स्व बिनोद बिहारी महतो की जयंती पर दी श्रद्धांजलि







गिरिडीह में झारखण्ड पुरोधा स्व बिनोद बिहारी महतो की जयंती पर दी श्रद्धांजलि गिरिडीह गुरुवार

को गिरिडीह जिले में विभिन्न जगहों में झारखण्ड पुरोधा स्व बिनोद बिहारी महतो की जयंती पर

उन्हें याद कर श्रद्धांजलि अर्पित किए गए।जिसमेझामुमो जिला कार्यालय गिरिडीह में झामुमो के

संस्थापक सदस्य सह महान शिक्षाविद,सहसमाज सेवी,चिंतक स्व बिनोद बिहारी महतो जी की

99वीं जयंती पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष

संजय सिंह ने किया। इस कार्यक्रम में सभी लोगों ने बिनोद बाबू के चित्र पर माल्यार्पण कर

श्रधांजलि अर्पित की। जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि बिनोद बाबू के विचार आज भी प्रषांगिक है।

वे जीवन पर्यंत गरीबों एवं समाज के कमजोर लोगो की लड़ाई लड़ी।शिक्षा के क्षेत्र में उनका योगदान

अनुकरणीय है।वे हमेशा कहते थे कि पढ़ो तब लड़ो। उनके बताए मार्ग पर आज भी लोग चलते है।

इस कार्यक्रम में जिला उपाध्यक्ष अजित कुमार,पूर्व विधायक ज्योतिंद्र प्रसाद,दिलीप रजक, शोभा

यादव,रॉकी सिंह,राकेश रंजन, असगर अंसारी,संजय राम, महताब मिर्जा,बैजनाथ मुर्मू, अकील

सोनू,मजीद अंसारी, राकेश सिंह,अमित सिंह, फरीद,सहित कई साथी उपस्थित थे।इधर डुमरी में

विभिन्न संगठनों ने सादगीपूर्ण तरीके से झारखंड के पितामह का जन्म दिवस मनाया। विभिन्न

संगठनों ने यहां के घुजाडीह एवंबेरमो मोड़ में स्थापित बिनोद बिहारी महतो की प्रतिमा पर

माल्यार्पण कर उनके विचारों को अपनाने व उनके सपनों का झारखंड बनाने का संकल्प लिया।

गिरिडीह में  वक्ताओं ने कहा कि बिनोद बाबू की पढ़ो और लड़ो

गिरिडीह में  वक्ताओं ने कहा कि बिनोद बाबू की पढ़ो और लड़ो का प्रमुख नारा आज भी प्रासंगिक

है।आजसू विधानसभा प्रभारीसह प्रमुख यशोदा देवी ने अपने कार्यकतार्ओं के साथ बिनोद बिहारी की

प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और उनके सिद्धांतों को अपनाने का संकल्प लिया।मौके पर आजसू

नेता छक्कन महतो,प्रदीप मंडल,सतीश महतो,पप्पु महतो,काशी महतो,शंभू महतो,दुलारचंद

महतो,पिन्टू कुमार,मोहन महतो आदि उपस्थित थे।वहीं हरियर उलगुलान ट्रस्ट के द्वारा बिनोद

बाबू के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उनके सिद्धांतों व विचारों को अपनाने का संकल्प लिया।ट्रस्ट के

बैजनाथ महतो छोटू ने कहा कि बिनोद बाबू वास्तविक रूप में झारखंड के जननायक थे। इसदौरान

चंदू बरनवाल,तिलक साव,डीके महतो आदि उपस्थित थे।ट्रस्ट के सदस्य जुलूस के शक्ल में डुमरी

घुजाडीह बिनोद धाम से वनांचल चौक,बेरमो मोड़ होते हुए स्टेशन परिसर तक गया।



More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: