Press "Enter" to skip to content

गिरिडीह के बगोदर में हथियारों के फैक्ट्री की आशंका पर उबले पूर्व विधायक नागेंद्र महतो







बगोदर के पूर्व विधायक नागेन्द्र महतो
गिरिडीह।

भाजपा के पूर्व विधायक नागेंद्र महतो ने मंगलवार 28, सितंबर को एक स्वहस्ताक्षरित प्रेस बयान जारी कर कहा है कि भाकपा माले के कार्यकर्ता और बगोदर विधायक विनोद सिंह के करीबी के घर में जिस तरह से हथियार फैक्ट्री चलाई जा रही थी, उससे साफ है कि बगोदर जैसे शांतिप्रिय जगह को फिर से ही हिंसा में झोंकने की तैयारी भाकपा माले द्वारा की गई थी।बयान में कहा कि बगोदर पूर्वी जिला परिषद सदस्य सह भाकपा माले के कद्दावर नेता गजेंद्र महतो एवं पूजन महतो के बेहद करीबी के घर में जिस तरह से धड़ल्ले से पिस्तौल का निर्माण हो रहा था, उससे साफ है कि वह फैक्ट्री मालिक और विधायक के वरदहस्त से चलाई जा रही थी।कहा कि माले का मकसद इस फैक्ट्री के जरिए भारी संख्या में हथियारों का निर्माण कर बगोदर विधानसभा क्षेत्र में दहशत का राज्य कायम करना था। उन्होंने आगे कहा कि आने वाले पंचायत चुनाव में इन हथियारों के दम पर दहशत फैलाने की साजिश थी। पूर्व विधायक ने महतो ने कहा कि जिस तरह से बंगाल में सत्ताधारी पार्टी की तरफ से हथियारों के दम पर राजनीतिक हिंसा फैलाई जाती है और दूसरे विरोधी दलों के कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न किया जाता है, उसी तर्ज पर बगोदर में भी माले इन हथियारों के दम पर विरोधियों का दमन करने की तैयारी में थी। उन्होंने कहा कि भाकपा माले अपने जन्म काल से ही हथियारबंद राजनीति की हिमायती रही है।कहा कि 90 के दशक में बगोदर की जनता देख भी चुकी है कि कैसे इस पार्टी और इसके लोगों ने हिंसा के जरिए राज करने की कोशिश की थी।कहा लोकतंत्र की आड़ में गणतंत्र की हिमायती यह पार्टी राजनीति के वेश में उग्रवादी संगठन ही है, जिसका मकसद हथियारों के दम पर राजनीतिक रोटियां सेकना है। श्री महतो ने कहा कि घंघरी के हथियार फैक्ट्री से इस बात की पुष्टि भी होती है,कैसे माले ने बगोदर में हथियार की खेती शुरू कर दी है और ये खेती इतनी ज्यादा होने लगी है कि इसकी सप्लाई दूसरे राज्यों में भी किया जाने लगा है।उन्होंने कहा बगोदर में माले कार्यकर्ताओं और स्थानीय विधायक की करीबी के घर हथियार फैक्ट्री का चलना इस बात का सबूत भी है कि माले तालिबान के नक्शे कदम पर चलने लगी है, जिस तरह से तालिबानी हथियार की बोली बोल रहे हैं, उसी तरह से हथियारो का स्टॉक बनाकर माले भी गोली की बोली बोलने की तैयारी कर रही थी।हथियार फैक्ट्री के मामले पर स्थानीय पुलिस लीपापोती का काम ना करें,चूंकि मौके से हथियार बनाने के सामान मिले हैं, इसलिए यह साफ है कि यहां फैक्ट्री चल रही थी। उन्होंने कहा कि देश की सबसे व्यस्ततम सड़क जीटी रोड के किनारे धड़ल्ले से एक मकान में हथियार बनाए जा रहे थे और उसकी सप्लाई की जा रही थी, इसकी भनक को स्थानीय पुलिस को ना लगना भी एक कई तरह के सवाल पैदा करती है।कहा कि वह भला हो बंगाल पुलिस की सक्रियता का जिसके चलते बगोदर में हथियार की फैक्ट्री  होने की बात का खुलासा हो सका, नहीं तो उससे साफ है कि फैक्ट्री के जरिए हथियारों की एक बड़ी खेप तैयार की जाती। उन्होंने हेमंत सोरेन सरकार और झारखंड के डीजीपी से मांग की है कि इस मामले की गंभीरता से जांच कराई जाए तो हिमाकत करने वाली उग्रवादी पार्टी भाकपा माले और उसके अगुआ नेताओं के दामन का सच सामने आ जाएगा।



More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: