Press "Enter" to skip to content

गढ़चिरौली में मारे गये नक्सलियों में मिलिंद तेतुमबडे भी शामिल




पुलिस और नक्सलियों के बीच हाल की सबसे बड़ी मुठभेड़

राष्ट्रीय खबर

मुंबईः गढ़चिरौली में मारे गये नक्सलियों में टॉप माओवादी नेता मिलिंद तेतुमवडे भी शामिल है। इस बात की पुष्टि आज महाराष्ट्र पुलिस के द्वारा कर दी गयी है।




बता दें कि कल ही इस मुठभेड़ में 26 नक्सलियों के मारे जाने की खबर आयी थी। इस मुठभेड़ में चार पुलिसवाले भी घायल हुए थे।

इस मुठभेड़ में प्रतिबंधित माओवादियों के इस नेता के भी मारे जाने की पुष्टि हो चुकी है। इसे पुलिस अपनी तरफ से एक बड़ी उपलब्धि मान रही है।

मिलिंद को जीवा और दीपक नाम से भी जाना जाता था। वह प्रतिबंधित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(माओवादी) का अन्यतम शीर्षस्थ नेता भी था।

उसके जिम्मे महाराष्ट्र के अलावा मध्यप्रदेश और छत्तीसघड़ का इलाका भी था। माओवादियो ने अपनी रणनीति के तहत इस इलाके की पहचान एमएमसी के तौर पर दर्ज की थी।

महाराष्ट्र के यवतमाल के राजूर गांव के मिलिंद पर सरकार ने पचास लाख का ईनाम भी घोषित कर रखा था क्योंकि उसका नाम कई बड़े हमलों में आ चुका था।

पुलिस के मुताबिक हाल के दिनों में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में संगठन को नये सिरे से सक्रिय करने में भी उसकी प्रमुख भूमिका थी।




इन तीनों राज्यों में अचानक से नक्सली गतिविधियों में बढ़ोत्तरी दर्ज की गयी है। गढ़चिरौली के इस मुठभेड़ में मारे गये 26 नक्सलियों में छह महिला नक्सली भी शामिल हैं।

गढ़चिरौली के मार्दिनटोला जंगल में यह मुठभेड़ नक्सलियों और सी 60 कमांडो दस्ते के बीच हुई थी। यह इलाका छत्तीसगढ़ की सीमा से सटा हुआ इलाका है।

गढ़चिरौली मुठभेड़ में मारे गये दस लोगों की पहचान नहीं

कई घंटे तक दोनों तरफ से गोलीबारी के बाद अंततः नक्सलियों को अपने मृत साथियों का शव छोड़कर पीछे हटना पड़ा।

वैसे आशंका है कि हो सकता है कि कुछ शव नक्सली अपने साथ भी ले जाने में कामयाब रहे होंगे। इस मुठभेड़ में मारे गये दस नक्सलियों की अब तक पहचान नहीं हो पायी है।

दूसरी तरफ जिन लाशों की पहचान हो चुकी हैं उनमें लोकेश उर्फ मंगू पोडियाम और महेश उर्फ शिवाजी गोटा भी हैं। यह दोनों स्थानीय कमेटी के शीर्ष नेता थे।

घटनास्थल से पुलिस ने पांच एके 47 के अलावा एक ग्रेनेड लांचर, नौ एसएलआर तथा एक इंसान राइफल भी बरामद किया है जबकि तीन थ्री नॉट थ्री राइफल भी पाये गये है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महाराष्ट्रMore posts in महाराष्ट्र »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: