Press "Enter" to skip to content

कैलिफोर्निया के जंगलों में फिर से तेज हवा से आग भड़की

वाशिंगटनः कैलिफोर्निया में फिर से जंगलों में लगी आग तेज हवाएं चलने

के कारण और भड़क गयी है तथा आग की भयावहता के मद्देनजर शाम

चार बजे तक ‘रेड फ्लैग एडवाइजरी’ जारी की गयी है।

अमेरिकी राष्ट्रीय मौसम सेवा वैज्ञानिक रायन वालबर्न ने बताया कि

तेज हवाओं ने आग और भड़का दी है लेकिन अच्छी खबर यह है कि

अगले कुछ दिन में मौसम में सुधार होने की संभावना है। उन्होंने बताया

कि बारिश का अनुमान नहीं है लेकिन तेज हवाएं भी बंद हो जायेंगी।

कैलिफोर्निया में मंगलवार रात बहुत तेज हवाएं चली और उसके आज भी

जारी रहने के आसार हैं। श्री वालबर्न ने बताया कि आने वाले पांच से सात

दिन में मौसम बेहतर होने की उम्मीद है। पैसिफिक गैस एंड इलेक्ट्रिक

(पीजीएंडई) ने मंगलवार को घोषणा की थी कि तेज हवाओं के कारण

आग फैलने की आशंका के मद्देनजर छह लाख उपभोक्ताओं को बिजली

की आपूर्ति एहतियातन बंद कर दी गयी है।

इससे पहले नौ लाख लोगों को बिजली की आपूर्ति रोकी गयी थी। तेज

हवाओं के पूर्वानुमान में कहा गया था कि यह प्रतिष्ठानों को नुकसान

पहुंचा सकती है और इससे दूसरे जगहों पर आग लग सकती है।

कैलिफोर्निया के जंगलों में लगी आग पर काबू पाने के लिए दमकलकर्मी

लगातार प्रयास कर रहे हैं। जंगलों में लगी आग की चेतावनी के कारण

करीब 50000 से अधिक लोगों को घरों से बाहर निकाल लिया गया है।

लॉस ऐंजलिस और सोनोमा काउंटी में आपात स्थिति घोषित कर दी

गयी है। कैलिफोर्निया के दमकल विभाग का कहना है कि राज्य में आग

की स्थिति बहुत गंभीर है और यह लॉस एंजिलिस तक फैल गयी है। यह

आग करीब 600 एकड़ में फैल चुकी है। यहां स्थित करीब 10 हजार घरों

को तुरंत खाली करवाने का आदेश दिया गया है।

कैलिफोर्निया में पिछले साल आग से 85 लोग मारे गये थे

कैलिफोर्निया के दक्षिण क्षेत्र में हवाएं 50 से 70 मील प्रति घंटे की रफ्तार

से चल रही है, वहीं लॉस एंजिल्स के पहाड़ी इलाके में इसकी रफ्तार

80 मील प्रति घंटा है। कैलिफोर्निया के इतिहास में जंगल की आग

2018 में सबसे खतरनाक रही, जब उत्तरी कैलिफॉर्निया में बिजली

लाइनों के कारण 85 लोग मारे गए थे। इस बार बिजली की आपूर्ति

पहले ही बंद कर दी गयी है।

Spread the love
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from मौसमMore posts in मौसम »
More from यू एस एMore posts in यू एस ए »

4 Comments

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version