fbpx Press "Enter" to skip to content

आजसू के प्रदेश सचिव माधव ने कहा भ्रष्टाचार चरम पर, सरकारी राशि की बंदरबांट

कुंडहितः आजसू के प्रदेश सचिव माधव चन्द्र महतो ने एक प्रेस कॉंफ्रेस कर बताया कि

कुंडहित प्रखंड कार्यालय में भ्रष्टाचार चरम पर है। यंहा अधिकारी एंव बिचोलिया मिलकर

सरकारी राशि का बंदरबांट कर रहे है। उन्होने कई सारे मुद्वो को अड़े हाथ लेते हुए कहा

कि यहां के प्रथम वर्गीय पशुपालन चिकित्सा पदाधिकारी चरम भ्रष्टाचार में लिप्त है।

वीडियो में देखिये क्या कहा उक्त नेता ने

उन्होंने पशुपालन पदाधिकारी डॉ विनोद कुमार पर पशुओं को दिये जाने वाले टीका का

बेचने का आरोप लगाया है और कहा कि जो झोला छाप डाक्टर हैं, यहां से लेकर पश्चिम

बंगाल तक सरकारी वैक्सिन बेचते हैं। उन्होने कहा की डॉ विनोद कुमार को यह प्रमाण

देना चाहिए कि किस गांव की अबतक कितनी पशुओं का टीकाकरण हुआ है। कहा कि

केन्द्र सरकार द्वारा गोवंशो का 12 डिजिट का यूनिक नम्बर लगाया जा रहा है। इस पर

बहुत बड़ा घोटाला है। मै मांग करता हूं सरकार से कि किस गांव के कौन से लोगो के पशुओं

का यूनिक नम्बर लगाया गया है सूची उपलब्ध कराया जाय। यही नही उन्होने वर्तमान

प्रभारी कल्याण पदाधिकारी पर कल्याण विभाग का बचे हुए साईकिल बेचने का भी आरोप

लगाया हैं। 

आजसू के प्रदेश सचिव ने अधिकारियों की गड़बड़ी का ब्योरा दिया

आजसू के प्रदेश सचिव ने कहा कि प्राक्तण कल्याण पदाधिकारी लक्ष्मण हरिजन के

समय स्टॉक रजिस्टर में 150 साईकिल का स्टॉक का उल्लेख था लेकिन वर्तमान में एक

भी साईकिल नही दिख रही है। मैं वर्तमान कल्याण पदाधिकारी से यह मांग करता हूं कि 

150 साईकिल किसके बीच बांटा गया। उन्होने मनरेगा में हो रहे भ्रष्टाचार को अडे़ हाथ

लेते हुए बताया की मनरेगा पोर्टल से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुंडहित प्रखंड मे मनरेगा

से कई एक हजार योजनाएं संचालित है। लेकिन अधिकारी एंव बिचोलिया के मिली भगत

से यंहा मनरेगा मजदंुरो से काम न कराकर अन्य मजदुरों द्वारा काम कराया जा रहा है।

जिसका जिता जागता प्रमाण मनरेगा पोर्टल है। इस पोर्टल में साफ दिख रहा है की जिस

तिथि को सामग्री मद का भूगतान वेंडर को हुआ है उस तिथि को मजदुरी मद में मात्र एक

सप्ताह का ही भुगतान हुआ हैं ,लेकिन धरातल पर योजना बनकर तैयार है। अब प्रश्न यह

उठता है की उस योजना में कौन सा मजदुर काम किया ? जाहिर है की या तो अधिकारी

योजना का निरीक्षण नही करते हें या फिर अधिकारी की मिलीभगत हैं। यही नही मनरेगा

से निर्मित सिंचाई कूप में प्राक्कलन के अनुसार काम नही हो रहा है। प्राक्कलन के अनुसार

मनरेगा सिंचाई कूप में 15 इंच की जोड़ाई का प्रावधान है लेकिन बिचोलिया जैसे तैसे 10

ईंच की जोड़ाई कर योजना को पूर्ण करने मेें लगे है। उन्होने कहा की इन तमाम मसलो पर

मै यहां के पार्टी यूनिट के रुप से और पूरी पार्टी की और से मै मांग करता हूं झारखंड

सरकार से की ये तमाम चीजो की जांच सक्षम जांच दल के द्वारा उच्च स्तरीय जांच होना

चाहिए।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from घोटालाMore posts in घोटाला »
More from जामताड़ाMore posts in जामताड़ा »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: