Press "Enter" to skip to content

झारखंड के पूर्व मंत्री योगेंद्र साव ने न्यायालय में किया आत्मसमर्पण

रांचीः झारखंड में चीरूडीह गोलीबार मामले के मुख्य आरोपी राज्य के पूर्व मंत्री योगेंद्र साव ने

उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करते हुये आज रांची की एक सत्र अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया।

श्री साव ने अपर जिला न्यायाधीश (सप्तम्) एस. एस. प्रसाद की अदालत में आत्मसमर्पण किया।

इसके बाद उन्हें रांची के होटवार जेल भेज दिया गया।

उच्चतम न्यायालय ने जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने पर 12 अप्रैल 2019 को श्री साव की

जमानत रद्द कर उन्हें रांची की निचली अदालत में आत्मसमर्पण करने का आदेश दिया था।

पूर्व मंत्री ने न्यायालय में आत्मसमर्पण करने के बाद राज्य की रघुवर दास सरकार पर

उनके खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाते हुये कहा कि

वह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से केवल इस मामले के सिलसिले में रांची आये हैं।

झारखंड की राजनीति में भूचाल लाया हैं योगेंद्र साव का स्टिंग ऑपरेशन

उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ फर्जी मामले दर्ज किये गये हैं।

उन्हें देश की न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है और उन्हें इंसाफ जरूर मिलेगा।

श्री साव ने कहा, मैंने हत्या, डकैती और दुष्कर्म जैसा कोई जघन्य अपराध नहीं किया है।

चिरूडीह में जो कुछ भी हुआ वह लोगों के हित से जुड़ा मुद्दा था।

वहां कंपनियां पुलिस बल का इस्तेमाल कर भोले-भाले लोगों की जमीन हड़पना चाहती थी,

जिसका मैंने और मेरी विधायक पत्नी निर्मला देवी ने विरोध किया था।’’

उल्लेखनीय है कि श्री साव वर्ष 2016 में हजारीबाग जिले में बड़कागांव थाना क्षेत्र के चिरूडीह गांव में हुए गोलीबारी मामले के मुख्य आरोपी हैं।

उनकी पत्नी और विधायक निर्मला देवी ने इस इलाके में विद्युत क्षेत्र की देश की सबसे बड़ी कंपनी

एनटीपीसी लिमिटेड के कोयला खनन का विरोध कर रहे स्थानीय लोगों का नेतृत्व किया था।

इस दौरान पुलिस और लोगों की बीच झड़प हो गई।

इस बीच पुलिस विधायक निर्मला देवी को बलपूर्वक गिरफ्तार करने का प्रयास कर रही थी

तभी भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस की ओर से की गई फायरिंग में चार लोगों की मौत हो गई।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mission News Theme by Compete Themes.