Press "Enter" to skip to content

जामिया की पहली महिला कुलपति ने कार्यभार संभाला

नयी दिल्लीः जामिया मिल्लिया इस्लामिया की पहली नव नियुक्त महिला कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने

कहा है कि वह जामिया को विश्व स्तर का शैक्षणिक संस्थान बनाने के लिए भरपूर प्रयास करेंगी

और इसके महान संस्थापकों के सपनों को पूरा करेगी।

प्रो. अख्तर ने नया कुलपति बनाने के बाद अपने सन्देश में कहा है कि

वह 1920 में स्थापित इस विश्वविद्यालय के संस्थापकों मोहमद अली जौहर, डॉ जाकिर हुसैन जैसे लोगों के

सपने को पूरा करेंगी और इसे एक समावेशी शैक्षणिक संस्थान बनायेगी,

जहाँ शांति और न्याय कायम हो तथा शिक्षा की गुणवत्ता और बढ़े।

उन्होंने आज यहाँ अपना कार्यभार संभाल लिया।

उन्हें कल विश्वविद्यालय का नया कुलपति नियुक्त किया गया था।

अब तक प्रो. शाहिद अशरफ कार्यवाहक कुलपति का कार्य भार संभाल रहे थे।

ब्रिटेन के नाटिंघम और वारविक विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त प्रो. अख्तर ने कहा कि

जामिया ने हाल के वर्षों में अपनी रैंंकिंग में काफी सुधार किया है

और वह लगातार उत्कृष्ट शिक्षण संस्थान की दिशा में बढ़ता जा रहा है,

शोध एवं अनुसन्धान कार्यों को बढ़ावा दिया। उसने 38 विभागों एवं 27 केन्द्रों के साथ

2018 में राष्ट्रीय ओवरआल रैंंकिंग में 19 वां स्थान प्राप्त किया था,

इस बार भी उसने 19 वां स्थान प्राप्त किया है।

इस तरह जामिया दिल्ली विश्वविद्यालय से एक पायदान ऊपर है।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से एम. ए. में गोल्ड मेडलिस्ट प्रो. अख्तर ने कहा कि

अगले वर्ष जामिया अपनी स्थापना के सौ साल पूरे कर रहा है।

जामिया की जन्मशती हम बड़े पैमाने पर मनाएंगे और इस विश्वविद्यालय के गौरव

और इतिहास को एक बार फिर जीवित करेंगे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Mission News Theme by Compete Themes.